मंगलवार, 25 जनवरी 2011

प्यारा नाम, हुआ बदनाम



रमेश श्रीवास्तव

कितना प्यारा नाम है शीला और मुन्नी लेकिन आज कल मनचलों की जुबान इस नाम से घिस रही है.समाज में इन दो नामों शीला और मुन्नी पर जंग और बहस छिड़ती नजर आ रही है. शीला और मुन्नी की महिलाएं और लड़कियां दुबककर बैठ गई हैं, क्योंकि उन्हें देखकर सहेलियां या शरारती लड़के गाना शुरू कर दे रहे हैं पूरब ने कभी सोचा ही नहीं था कि हमारी प्यारी मुन्नी आगे चलकर बदनाम हो जाएगी. शीला पर लोग अपनी गलत नजर रखेंगे. बड़े-बुजुर्ग लड़कियों को प्यार से बचपन में मुन्नी और शीला कहकर बुलाते हैं. आगे चलकर वही नाम हो जाता था. आज यही नाम फिल्म जगत से निकलकर गलियों सड़कों पर बदनाम चल पड़ा है.दबंग में मलाइका ने ह्यमुन्नी बदनाम हुई गाने पर डांस किया है. वहीं फिल्म ह्यतीस मार खांह्ण में कैटरीना कैफ ने शीला की जवानी पर अपना जलवा बिखेरा है. आज कल दो आइटम सांग ह्यमुन्नी बदनाम हुई और शीला की जवानी की धूम मची हुई है. हर तरफ यही दो गाने सुनाई दे रहे हैं. लेकिन गानों को लेकर महिलाओं के एक तबके में खासी नाराजगी है.कई महिला संगठनों ने इन गानों पर रोक लगाने की मांग की है. एनसीआर के नोएडा शहर में इन गानों को रुकवाने के लिए ज़ोरदार प्रदर्शन किया. ऐसे गानों से किसी को परेशानी हो तो सवाल उठना लाज़मी है. पाटिर्यों में शीला की जवानी और मुन्नी की बदनामी छा गई है. लोग इस पर थिरकते हुए नजर आ रहे हैं. मुन्नी और शीला के गाने पर रोक लगाने के लिए बंबई हाई कोर्ट के बाद वाराणसी की एक स्थानीय अदालत और इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में इनके खिलाफ याचिका तक दायर की जा चुकी है. महिलाओं का आरोप है कि शीला और मु्न्नी नाम की महिलाओं को इससे काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. मनचले उन्हें छेड़ने के लिए इन गानों का इस्तेमाल कर रहे हैं. वैसे फिल्मी गानों में महिलाओं के नामों का इस्तेमाल पहले भी होता रहा है. फिल्म दबंग और तीस मार खां में मुन्नी और शीला को जिस रूप में पेश किया गया है, उस पर असल आपत्ति यही है. समाज वास्तविक मुन्नियों और शीलाओं को उसी रूप में देखने लगा है. मप्र की अदालत ने फिल्म दबंग के गाने ह्यमुन्नी बदनाम हुई अश्लील करार दिया. तीन मनचलों ने मुन्नी नाम की एक लड़की को इस गीत को गाकर छेड़खानी की. लड़की की शिकायत के बाद मामला अदालत पहुंचा, जहां तीनों की अंतरिम जमानत की अर्जी को कोर्ट ने खारिज कर दिया. वाराणसी में तीस मार खां फिल्म के गाने ला की जवानी का जमकर विरोध किया गया. स्थानीय अदालत में इस गाने को फिल्म से हटाने के लिए याचिका दायर की गई थी पर अभी तक उस पर कोई भी फैसला नहीं आया.दनकौर के निकट राजपुरकलां गांव में एक समारोह के दौरान शीला की जवानी गाना बजने पर दो पड़ोसियों में जमकर मारपीट भी हो चुकी है लोगों के मुताबिक शीला एक साधाराण नाम है जो हर दूसरी महिला या लड़की का होता है. इस गाने पर लड़कों ने लड़कियों को छेड़ना शुरू कर दिया है. इस अभद्र शब्द को गाने से हटा दिया जाए या फिर पूरा गाना ही फिल्म से हटा दिया जाए. वैसे इससे पहले फिल्म त्रिदेव के ओए-ओए गीत ने धूम मचाया था. फिल्म सौदागर का इलु-इलु भी मनचलों के लिए छेड़छाड़ का जरिया बन गया था. शीला और मुन्नी को लेकर गाने बनाने वालों को चाहे जितनी ही शोहरत और आमदनी हुई हो लेकिन ये गाने उन महिलाओं के लिए आफत बन गए हैं जिनके नाम शीला या मुन्नी है. गाने से अलग अच्छी शुरुआत के बावजूद फिल्म तीस मार खां ने बाक्स आफिस पर दम तोड़ना शुरू कर दिया है. इस बात से फराह को काफी निराशा पहुंची है. शीला और मुन्नी गाने का लफड़ा बढ़ता ही जा रहा है. देखिए आगे क्या गुल खिलाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग प्रस्तुति