गुरुवार, 20 जनवरी 2011

अब हमेशा के लिए कर लो अपना नंबर मुट्ठी में

अगर दफ्तर में दाखिल होते ही आपके फोन के सिग्नल गायब हो जाते हैं या दोस्त हमेशा फोन आउट आॅफ रीच होने की शिकायत करते हैं तो अब आपको उनकी शिकायतों को अनसुना करने की जरूरत नहीं। गुरुवार से मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (एमएनपी) शुरू हो रही है। यानी आपको बिना नंबर बदले मोबाइल सर्विस प्रवाइडर बदलने की आजादी मिलने जा रही है। वक्त आ गया है कि जो सेल्युलर कंपनियां अब तक आपकी शिकायतों पर ध्यान नहीं दे रही थीं, उन्हें अब आप सर्विस बदलकर रास्ता दिखाएं।
शुरुआत के तौर पर एमएनपी की सुविधा सबसे पहले पिछले साल नवंबर में हरियाणा के कुछ इलाकों में लागू की गई थी, पर गुरुवार से प्रधानमंत्री देश •ार में इसे लॉन्च कर देंगे। टेलिकॉम मिनिस्टर कपिल सिब्बल के मुताबिक, इससे बड़ा फायदा यह होगा कि अगर आप अपने सर्विस प्रवाइडर से खुश नहीं हैं तो नंबर के बारे में डरे बिना आप दूसरे सर्विस प्रवाइडर की सेवा ले सकते हैं। लॉन्च से पहले ही सेल्युलर कंपनियां तरह-तरह से यूजर्स को लु•ााने लगी हैं और कई ने टोल-फ्री लाइनें •ाी शुरू कर दी हैं। इनमें लोगों को बिना नंबर बदले सर्विस बदलने के बारे में बताया जा रहा है।
19 रुपये में आजादी: एमएनपी के तहत आप मोबाइल नंबर बदले बगैर सर्विस प्रवाइडर बदल सकते हैं। आपका सेल नंबर नए सर्विस प्रवाइडर के पास पहुंच जाएगा। यह प्रक्रिया पूरी होने में सात दिन का वक्त लगेगा। अगर आप जीएसएम टू जीएसएम, सीडीएमए टू जीएसएम या फिर कोई दूसरा कनेक्शन यूज कर रहे हैं, तब •ाी आप इस सर्विस का फायदा उठा सकते हैं। इस सुविधा के लिए आपको नए सर्विस प्रवाइडर को महज 19 रुपये देने होंगे।
एक एसएमएस कर देगा काम: एमएनपी के लिए आपको 1900 पर एसएमएस •ोजना होगा। इसका फॉर्मेट होगा - ' ढडफळ <स्पेस> आपका मोबाइल नंबर'। बदले में आपको 8 नंबरों का कोड और उसकी एक्सपायरी डेट मिलेगी। इस कोड को यूनीक पोर्टिंग कोड (यूपीसी) कहा जाता है। अब आपको कोड, अड्रेस प्रूफ, आइडेंटिटी प्रूफ, फोटोग्राफ, यूपीसी और मोबाइल नंबर के जिक्र वाले ऐप्लिकेशन फॉर्म के साथ नए सर्विस प्रवाइडर के नजदीकी सर्विस सेंटर पर जाना होगा। यह काम आपको यूपीसी एसएमएस में आई एक्सपायरी डेट के •ाीतर करना होगा।
इसके बाद आॅपरेटर आपकी गुजारिश को मोबाइल पोर्टेबिलिटी क्लियरिंग हाउस तक पहुंचाएगा। वहां आपके नंबर को मौजूदा प्रवाइडर से डी-ऐक्टिवेट कर नए सर्विस प्रवाइडर से एक्टिवेट कर दिया जाएगा। ऐसा होने पर आपको नए प्रवाइडर से एसएमएस मिलेगा। इसमें उस तारीख और वक्त का जिक्र होगा, जिस दौरान आपका मोबाइल फोन नो सर्विस पीरियड (काम नहीं करेगा) में होगा। इसी दरम्यान सर्विस प्रवाइडर में तब्दीली होगा। इस प्रक्रिया में दो घंटे लगेंगे और तब तक आप मोबाइल फोन यूज नहीं कर सकेंगे। ये पीरियड रात बारह से सुबह पांच बजे के बीच होगा।
चाहे प्री हो या पोस्ट: एमएनपी को पोस्टपेड या प्रीपेड, दोनों नंबरों के लिए यूज कर सकते हैं। हां, पोस्टपेड कनेक्शन के मामले में कोई बकाया नहीं होना चाहिए। वहीं, प्रीपेड कनेक्शन के केस में आप अपना बैलेंस नए सर्विस प्रवाइडर को ट्रांसफर नहीं कर सकेंगे। इसे इंटरनेट डेटा कार्ड के तौर पर इस्तेमाल किए गए सिम कार्ड पर •ाी यूज किया जा सकेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग प्रस्तुति