शनिवार, 14 जनवरी 2012

कहीं भी खरीद सकेंगे आभूषण

ट्विनसिटी बोली हॉलमार्किंग से होगा लोगों को लाभ
शेखर झा
सरकार ने आभूषणों पर हॉलमार्किंग को तो अनिवार्य कर दी हैं, लेकिन शहर के ज्वलेरी शॉप के संचालकों के साथ आम लोगों ने अपनी अलग अलग प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी हैं। हॉलमार्किंग से जहां आम लोगों को सही आभूषण मिलेगे, वहीं मझले और छोटे सराफा व्यापारियों को नुकसान उठाना पड़ेगा। वहीं शहर के बड़े शोरूम्स ने इसका स्वागत किया। भारत सोने का सबसे बड़ा ग्राहक है। कई बार आभूषणों के गुणवत्ता पर सवाल भी उठ चुके हैं। उसको देखते हुए सरकार ने आभूषणों पर हॉलमार्किंग का फैसला लिया हैं। हॉलमार्किंग को आनिवार्य रूप से शुरू होने पर लोगों ने इस फैसलेका स्वागत किया हैं। अब वह जहां से चाहे वहां से आभूषणों की खरीदी कर सकेंगे, क्योंकि अब उनको हर जगह आभूषणों पर हॉलमार्किंग जो मिलेगी। शुक्रवार को शेखर झा ने ट्विनसिटी के ज्वेलर्स व आम लोगों से हॉलमार्किंग को लेकर चर्चा की तो उन्होंने कहा कि हॉलमार्किंग वाकई लोगों के लिए सही है, लेकिन छोटे ज्वेलरी दुकान वालों के लिए नुकसानदायक भी हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में हॉलमार्किंग सेंटर एक ही जगह हैं, जिसको लेकर समय के साथ साथ खर्च भी बढ़ जाएगा। सरकार ने आभूषणों पर हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दिया हैं, तो उनको सेंटर भी बढ़ाने होंगे। हॉलमार्किंग वाले आभूषण के लिए लोगों को १० फीसदी अधिक रुपए खर्च करने पड़ेंगे।
व्यापार पर पड़ेगा असर
सरकार ने आभूषणों पर हॉलमार्किंग को अनिवार्यकर दिया हैं। इससे आम लोगों के लिए काफी फायदेमंद हो गया हैं, लेकिन यह छोटे व्यापारियों के साथ व्यापार पर असर देखने को मिलेगा। गहनों की विश्वनीयता पर अब सवाल नहीं उठेंगे।
प्रदीप सोनी, संचालक, प्रदीप ज्वेलर्स
स्वागत करते हैं हॉलमार्किंग का
वैसे तो दुकान में आने वाले कस्टमर को पहले से ही हॉलमार्किंग वाले आभूषण दिए जाते हैं, लेकिन सरकार ने इसको अनिवार्य रूप से लागू करने की बात कहीं हैं, तो उसका हम स्वागत करते हैं। हॉलमार्किंग वाले आभूषण से लोगों को शुद्धता पर कोई शक नहीं होगा।
सुनील जैन, संचालक, सहेली ज्वेलर्स
विश्वसनीयता रहेगी बरकरार
अक्सर सोने चांदी के खरीदी के दौरान लोगों के मन में नकली न हो जाए, उसका डर बने रहता था, लेकिन हॉलमार्किंग के होने से लोगों की विश्वनीयता बरकरार रहेगी। सरकार ने आभूषणों पर हॉलमार्किं ग अनिवार्य कर दिया हैं, जिसके चलते लोग आभूषण की खरीदारी कहीं से भी कर सकेंगे।
प्रेम चंद्राकर, डायरेक्टर, क्षेत्रीय फिल्म
रहेगी आभूषणों की सिक्यूरेटी
सरकार ने जो आभूषणों पर हॉलमार्किंग अनिवार्यकर दिया हैं, यह आम जनता के लिए काफी हद तक ठीक हैं, किसी दुकान में बिना हॉलमार्किंग वाले आभूषण को रिसेल करते हैं, तो सामने वाला मनाकर देता हैं, लेकिन हॉलमार्किंग के होने से आभूषणों की सिक्यूरेटी बढ़ जाएगी।
सपना अवस्थी, हाउस वाइफ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग प्रस्तुति