शनिवार, 14 जनवरी 2012

स्टूडेंट्स जुटे एग्जाम के फाइनल टच में

जहां एक ओर स्टूडेंट्स १२वीं परीक्षा को फाइनल टच देने में जुट गए हैं, वहीं कुछ एआईईईई की तैयारी में अभी व्यस्त हो गए हैं। १२वीं परीक्षा के होने के बाद एआईईईई के लिए स्टूडेंट्स के पास लगभग एक महीना बच जाएगा। उसमें अच्छे से एग्जाम का प्रीप्ररेशन कर सकेंगे। २०११ में संपन्न हुए एआईईईई परीक्षा में छत्तीसगढ़ से लगभग २४ हजार स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। इस बार परीक्षार्थियों की संख्या बढने की संभावना है।
शेखर झा
इंजीनियरिंग क्षेत्र में करियर बनाने वाले स्टूडेंट्स के लिए एक बार फिर से सुनहरा अवसर है। सीबीएसई की ओर से २९ अप्रैल को ऑल इंडिया इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम(एआईईईई) आयोजित होने वाली है। जिसमें लाखों की तादात में स्टूडेंट्स हिस्सा लेंगे। एग्जाम की डेट जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, वैसे स्टूडेंट्स अपने पढ़ाई को फाइनल टच देने में जुट गए हैं। एग्जाम को दो भागों में लिया जाएगा, जिसमे पहले ऑफलाइन और फिर ऑनलाइन एग्जाम आयोजित होंगे। ट्विनसिटी से भी हजारों की संख्या में स्टूडेंट्स एग्जाम फेश करेंगे। वहीं २०११ में छत्तीसगढ़ से २४ हजार स्टूडेंट्स ने एग्जाम दिया था। इस बार के एग्जाम में स्टूडेंट्स की संख्या और बढ़ सकती हैं। हालांकि देखा जाए, तो एआईईईई से पहले स्कूलों में १२वीं का एग्जाम होगा। उसके बाद ही जाकर स्टूडेंट्स इस एग्जाम में शामिल हो सकेंगे। जहां स्टूडेंट्स अपने स्कूल की परीक्षा की तैयारी कर रहें हैं, लेकिन उसके साथ ही साथ इंजीनियरिंग क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम की भी तैयारी कर रहे हैं। इस एग्जाम में स्टूडेंट्स को सही उत्तर देने पर नम्बर तो मिलता ही हैं, लेकिन गलत उत्तर देने पर नम्बर काट लिए जाते हैं। इसलिए स्टूडेंट्स को काफी सावधानी से प्रश्रों को सॉलव करना होता है। मार्च के फस्र्ट विक से एग्जाम के लिए शहर में कई कोचिंग में क्रैश कोर्स शुरू हो जाती है, उसमें स्टूडेंट्स को एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी कराई जाती हैं।
पहले ऑफलाइन फिर ऑनलाइन
एआईईईई के लिए सबसे पहले ऑफलाइन और उसके बाद ऑनलाइन परीक्षाएं होगी।ऑफलाइन २९ अप्रैल को और ऑनलाइन ७ मई से २६ मई तक आयोजित की जाएगी। एग्जाम के परिणाम १५ जून तक घोषित कर दिए जाएंगे। उसके बाद स्टूडेंट्स अपने-अपने रैंक के अनुसार देश के किसी भी इंजीनियरिंग कॉलज में एडमिशन ले सकेंगे।
नेगेटिव मार्किंग से सावधान
इस एग्जाम में गलत उत्तर दिए जाने पर नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान है। गलत उत्तर दिए जाने पर एक चौथाई अंक काट लिए जो हैं। इसलिए स्टूडेंट्स को उत्तर देते समय विशेष सावधानी रखनी पड़ती हैं। जिन प्रश्नों को लेकर उन्हें सस्पेंस की स्थिति रहती है, उन्हें छोड़ कर दूसरे प्रश्न बनाने चाहिए। हो सकता है कि बाद में समय मिलने पर उन प्रश्नों पर फिर से एक नजर डाल सकें। वहीं ऑनलाइन में स्टूडेंट्स को एक सेक्शन से दूसरे सेक्शन में जाने की छूट होती है और वे किसी भी प्रश्न पर आसानी से टिक लगा सकते हैं। एक बार सबमिट का बटन दब जाने के बाद दोबारा उसमें परिवर्तन नहीं किया जा सकता हैं।
शॉर्टकट्स आवश्यक
किसी भी फॉर्मूले पर अपना खुद के शॉटकट तैयार करने चाहिए। यह कार्य तैयारी के शुरुआती चरण में ही किया जाए, तो फायदेमंद साबित हो सकता है। शॉटकट से स्टूडेंट्स प्रश्नों का जवाब जल्दी एवं सही तरीके से दे पाते है। वैसे भी एग्जाम में प्रश्नों को हल करने के लिए कोई विशेष समय नहीं दिया जाता है, लेकिन अपना शॉटकट यूज करते हैं, तो कम समय में अधिक प्रश्नों को हल किए जा सकते हैं।
वर्जन
करना होगा रिवीजन
जो स्टूडेंट्स इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं और एग्जाम देना चाहते हैं, तो उसको १२वीं और एआईईईई को ध्यान में रखकर तैयारी करनी चाहिए। क्योंकि १२वीं एग्जाम के कुछ दिनों बाद एआईईईई के एग्जाम आयोजित होंगे। स्टूडेंट्स ने जितनी तैयारी अभी कर ली है, उसका ही रिवीजन करना चाहिए। स्टूडेंट्स को अब किसी भी तरह का नया कुछ नहीं करना चाहिए, क्योंकि अब उनके पास ज्यादा समय नहीं रह गया है।
- आरके रेड्डी, शिक्षाविद्
कंफर्म के बाद करें टिक
स्टूडेंट्स को १२वीं फाइनल एग्जाम को देखते हुए तैयारी करनी चाहिए। क्योंकि अगर स्टूडेंट्स १२वीं एग्जाम की तैयारी करते हैं, तो उसका फायदा उनको एआईईईई में मिलेगा। जब तक स्टूडेंट्स किसी प्रश्न के उत्तर पर कंफर्म नहीं रहते हैं, तो उनको टिक नहीं करना चाहिए। एग्जाम की तैयारी स्टूडेंट्स को टेस्ट के माध्यम से करनी चाहिए, टेस्ट देने से स्टूडेंट्स को अपनी गलती का पता चलता हैं।
- मोहम्मद सलीम, शिक्षाविद्
ध्यान रखें
० १२वीं और एआईईईई को ध्यान में रखकर तैयारी करना चाहिए
० रिवीजन जरूर करना चाहिए।
० प्रश्न को अपने शॉटकट तरीके से सॉलव करना चाहिए।
० प्रश्न को समझकर हल करना चाहिए।
० जिस प्रश्र को लेकर कंफ्यूड हो, उसको सॉलव नहीं करना चाहिए।
० टेस्ट के माध्यम से करें तैयारी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग प्रस्तुति